Ye Diwali Hai Sab Ko Jeene Ka Andaz Deti Hai | Nazeer Banarsi

A very classic and old ghazal by Nazeer Banarsi on the ocassion of Diwali. Enjoy the Ghazal -

Ye Diwali Hai Sab Ko Jeene Ka Andaz Deti Hai

मिरी साँसों को गीत और आत्मा को साज़ देती है
ये दीवाली है सब को जीने का अंदाज़ देती है

हृदय के द्वार पर रह रह के देता है कोई दस्तक
बराबर ज़िंदगी आवाज़ पर आवाज़ देती है

सिमटता है अंधेरा पाँव फैलाती है दीवाली
हँसाए जाती है रजनी हँसे जाती है दीवाली

क़तारें देखता हूँ चलते-फिरते माह-पारों की
घटाएँ आँचलों की और बरखा है सितारों की

वो काले काले गेसू सुर्ख़ होंट और फूल से आरिज़
नगर में हर तरफ़ परियाँ टहलती हैं बहारों की

निगाहों का मुक़द्दर आ के चमकाती है दीवाली
पहन कर दीप-माला नाज़ फ़रमाती है दीवाली

उजाले का ज़माना है उजाले की जवानी है
ये हँसती जगमगाती रात सब रातों की रानी है

वही दुनिया है लेकिन हुस्न देखो आज दुनिया का
है जब तक रात बाक़ी कह नहीं सकते कि फ़ानी है

वो जीवन आज की रात आ के बरसाती है दीवाली
पसीना मौत के माथे पे छलकाती है दीवाली

सभी के दीप सुंदर हैं हमारे क्या तुम्हारे क्या
उजाला हर तरफ़ है इस किनारे उस किनारे क्या

गगन की जगमगाहट पड़ गई है आज मद्धम क्यूँ
मुंडेरों और छज्जों पर उतर आए हैं तारे क्या

हज़ारों साल गुज़रे फिर भी जब आती है दीवाली
महल हो चाहे कुटिया सब पे छा जाती है दीवाली

इसी दिन द्रौपदी ने कृष्ण को भाई बनाया था
वचन के देने वाले ने वचन अपना निभाया था

जनम दिन लक्ष्मी का है भला इस दिन का क्या कहना
यही वो दिन है जिस ने राम को राजा बनाया था

कई इतिहास को एक साथ दोहराती है दीवाली
मोहब्बत पर विजय के फूल बरसाती है दीवाली

गले में हार फूलों का चरण में दीप-मालाएँ
मुकुट सर पर है मुख पर ज़िंदगी की रूप-रेखाएँ

लिए हैं कर में मंगल-घट न क्यूँ घट घट पे छा जाएँ
अगर परतव पड़े मुर्दा-दिलों पर वो भी जी जाएँ

अजब अंदाज़ से रह रह के मस़्काती है दीवाली
मोहब्बत की लहर नस नस में दौड़ाती है दीवाली

तुम्हारा हूँ तुम अपनी बात मुझ से क्यूँ छुपाते हो
मुझे मालूम है जिस के लिए चक्कर लगाते हो

बनारस के हो तुम को चाहिए त्यौहार घर करना
बुतों को छोड़ कर तुम क्यूँ इलाहाबाद जाते हो

न जाओ ऐसे में बाहर 'नज़ीर' आती है दीवाली
ये काशी है यहीं तो रंग दिखलाती है दीवाली

Ye Diwali Hai Sab Ko Jeene Ka Andaz Deti Hai - English Font

mirī sāñsoñ ko giit aur aatmā ko saaz detī hai
ye diwali hai sab ko jeene kā andāz detī hai

hirdai ke dvaar par rah rah ke detā hai koī dastak
barābar zindagī āvāz par āvāz detī hai

simaTtā hai añdherā paañv phailātī hai dīvālī
hañsā.e jaatī hai rajnī hañse jaatī hai dīvālī

qatāreñ dekhtā huuñ chalte-phirte māh-pāroñ kī
ghaTā.eñ āñchaloñ kī aur barkhā hai sitāroñ kī

vo kaale kaale gesū surḳh hoñT aur phuul se aariz
nagar meñ har taraf pariyāñ Tahaltī haiñ bahāroñ kī

nigāhoñ kā muqaddar aa ke chamkātī hai dīvālī
pahan kar dīp-mālā naaz farmātī hai dīvālī

ujāle kā zamāna hai ujāle kī javānī hai
ye hañstī jagmagātī raat sab rātoñ kī raanī hai

vahī duniyā hai lekin husn dekho aaj duniyā kā
hai jab tak raat baaqī kah nahīñ sakte ki faanī hai

vo jīvan aaj kī raat aa ke barsātī hai dīvālī
pasīna maut ke māthe pe chhalkātī hai dīvālī

sabhī ke diip sundar haiñ hamāre kyā tumhāre kyā
ujālā har taraf hai is kināre us kināre kyā

gagan kī jagmagāhaT paḌ ga.ī hai aaj maddham kyuuñ
muñDeroñ aur chhajjoñ par utar aa.e haiñ taare kyā

hazāroñ saal guzre phir bhī jab aatī hai dīvālī
mahal ho chāhe kuTiyā sab pe chhā jaatī hai dīvālī

isī din darupadī ne krishn ko bhaa.ī banāyā thā
vachan ke dene vaale ne vachan apnā nibhāyā thā

janam din laxmī kā hai bhalā is din kā kyā kahnā
yahī vo din hai jis ne raam ko raaja banāyā thā

ka.ī itihās ko ek saath dohrātī hai dīvālī
mohabbat par vijay ke phuul barsātī hai dīvālī

gale meñ haar phūloñ kā charan meñ dīp-mālā.eñ
mukuT sar par hai mukh par zindagī kī rūp-rekhā.eñ

liye haiñ kar meñ mañgal-ghaT na kyuuñ ghaT ghaT pe chhā jaa.eñ
agar partav paḌe murda-diloñ par vo bhī jī jaa.eñ

ajab andāz se rah rah ke muskātī hai dīvālī
mohabbat kī lahar nas nas meñ dauḌātī hai dīvālī

tumhārā huuñ tum apnī baat mujh se kyuuñ chhupāte ho
mujhe ma.alūm hai jis ke liye chakkar lagāte ho

banaras ke ho tum ko chāhiye tyauhār ghar karnā
butoñ ko chhoḌ kar tum kyuuñ allahabad jaate ho

na jaao aise meñ bāhar 'nazīr' aatī hai dīvālī
ye kāshī hai yahīñ to rañg dikhlātī hai dīvālī 

Post a Comment

0 Comments