Soch Mein Antar Lyrics | Mohalla Assi | Gulzar | Udit Narayan

Soch Mein Antar Lyrics | Mohalla Assi | Gulzar | Udit Narayan
Soch Mein Antar Lyrics is from the new movie Mohalla Assi. The song is sung by Madhushree and Udit Narayan. Lyrics has been penned by Gulzar and music has been composed by Amod Bhatt.

Song - Soch Mein Antar
Singers - Udit Narayan & Madhushree
Music - Amod Bhatt
Lyricist - Gulzar
Arranger / Programmer - Utpal Sharma

Soch Mein Antar Lyrics - Mohalla Assi

सोच में अंतर कोई नहीं
फिर राय में अंतर क्यों है?

हम जिसको कहते हैं यूं है
वो कहते है क्यों है?

सोच में अंतर कोई नहीं
फिर राय में अंतर क्यों है?

हम जिसको कहते हैं यूं है
वो कहते है यूं  है?

मुझको लगता है कि
सीढ़ी ऊपर जाती है
ऊपर देख के कहते हैं
वो नीचे आती है..

सोच में अंतर कोई नहीं
फिर राय में अंतर क्यों है?

हम जिसको कहते हैं यूं है
वो कहते है यूं है?

शान्ति
शान्ति..

हां बिन देखे ही कह देते हैं
आकाश बड़ा नीला है
हाँ बादल देख के मैं बोला था
आज बड़ा गीला है

सोच में अंतर कोई नहीं

मन में होगी बात कोई जो
उनकी सर से निकली

शान्ति शान्ति सुनती थी वो
साथ के घर से निकली

अरे पोथे छू के बतलाते हैं
पालक या सरसों है

राहू केतु  चन्द्र कहाँ क्या
काल शनि बीन है
पंचांग को देख के बतलाती है
रात है या दिन है

अरे कल का व्रत बतला दे तो कहती है
कि परसों है

सोच में अंतर कोई नहीं
फिर राय में अंतर क्यों है?

हम जिसको कहते हैं यूं है
वो कहते है यूं है?

सोच में अंतर कोई नहीं
फिर राय में अंतर क्यों है?

हम जिसको कहते हैं यूं है
वो कहती है यूं है?

Soch Mein Antar Lyrics - Mohalla Assi - English Font

Soch mein antar koi nahi
Phir rai mein antar kyun hai ?

Hum jisko kahte hai yun hai
Wo kahte hai yun hai ?

Soch mein antar koi nahi
Phir rai mein antar kyun hai ?

Hum jisko kahte hai yun hai
Wo kahte hai yun hai ?

Mujhko lagta hai ki
Sidhi upar jaati hai
Upar dekh ke kahte hai
Wo niche aati hai

Soch mein antar koi nahi
Phir rai mein antar kyun hai ?

Hum jisko kahte hai yun hai
Wo kahte hai yun hai ?

Soch mein antar koi nahi
Phir rai mein antar kyun hai ?

Hum jisko kahte hai yun hai
Wo kahte hai yun hai ?

Shanti
Shanti

Haa bin dekhe hi kah dete hai
Aaksh bada neela hai
haa baadal dekh ke main bola tha
Aaj bada geela hai

Soch mein antar koi nahi

Man mein hogi baat koi jo
Unki sir se nikli

Man mein hogi baat koi jo
Unki sir se nikli

Santi, santi sunti thi wo
Saath ke ghar se nikli

Are pothe choo ke batlaate hai
Paalak ya sarsoo hai

Raahu ke tu chandra kahan kya
Kaal sani bin hai
panchang ko dekh ke batlaati hai
Raat hai ya din hai

Are kal ka vrat batlaade to kahti hai
parso hai

Soch mein antar koi nahi
Phir rai mein antar kyun hai ?
Hum jisko kahte hai yun hai
Wo kahte hai kyun hai ?

Soch mein antar koi nahi
Phir rai mein antar kyun hai ?
Hum jisko kahte hai yun hai
Wo kahte hai kyun hai ?

Post a Comment

0 Comments