Pyar Hi Pyar Lyrics - Sona Mohapatra - Ram Sampath

Sona Mohapatra's Pyar Hi Pyar Lyrics: This new song by Sona Mohapatra is composed by Ram Sampath. Lyrics is penned by Munna Dhiman.

Pyar Hi Pyar Lyrics - Sona Mohapatra - Ram Sampath
Song Title: Pyar Hi Pyar
Singer: Sona Mohapatra 
Music and Composition: Ram Sampath 
Lyrics: Munna Dhiman

Pyar Hi Pyar Lyrics - Sona Mohapatra

Maine mohabbat ka pahna hai rang
Maine to chalna mohabbat ke sang
Maine to khud ko ye di hai zubaan
Rakhni Mohabbat hi bas darmayann

Bas pyar hi pyar hai karna mujhe
Sab Soch vichar hai karna mujhe
Bas pyar hi pyar hai karna mujhe
Sab soch vichar hai karna mujhe

Parkhu main apna har ek raasta
Har raasta haan har raasta
Bolun Main apni har ek aashta
Har aastha, har aastha

Maine mohabbat ka pahna hai rang
Maine to chalna mohabbat ke sang
Sawaalon ke koio jagah na jahan
Nahi maine karne hain sajde wahan

Bas pyar hi pyar hai karna mujhe
Sab Soch vichar hai karna mujhe
Bas pyar hi pyar hai karna mujhe
Sab soch vichar hai karna mujhe

Dharmon ne to hai mohabbat rachi
Mohabbat rachi mohabbat rachi
Humne banaa li hai deewangi
Deewangi deewangi

Maine mohabbat ka pahna hai rang
Maine to chalna mohabbat ke sang
Parinde charinde sabhi hain mere
Koi had nahi hai mere pyar ki

Bas pyar hi pyar hai karna mujhe
Sab Soch vichar hai karna mujhe
Bas pyar hi pyar hai karna mujhe
Sab soch vichar hai karna mujhe

Bas pyar hi pyar hai karna mujhe x4

Pyar Hi Pyar Lyrics - Sona Mohapatra - Hindi Font

मैंने मोहब्बत का पहना है रंग
मैंने तो चलना मोहब्बत के संग
मैंने तो ख़ुद को ये दी है जुबां
रखनी मोहब्बत ही बस दरम्यान

बस प्यार ही प्यार है करना मुझे
सब सोच बिचार है करना मुझे
बस प्यार ही प्यार है करना मुझे
सब सोच बिचार है करना मुझे..

परखूँ मैं अपना हर एक रास्ता
हर रास्ता हाँ हर रास्ता
बोलूँ मैं अपनी हर एक आस्था
हर आस्था हर आस्था

मैंने मोहब्बत का पहना है रंग
मैंने तो चलना मोहब्बत के संग
सवालों के कोई जगह ना जहाँ
नहीं मैंने करने हैं सजदे वहाँ..

बस प्यार ही प्यार है करना मुझे
सब सोच बिचार है करना मुझे
बस प्यार ही प्यार है करना मुझे
सब सोच बिचार है करना मुझे..

धर्मों ने तो है मोहब्बत रची
मोहब्बत रची मोहब्बत रची
हमने बनाली है दीवानगी
दीवानगी दीवानगी

मैंने मोहब्बत का पहना है रंग
मैंने तो चलना मोहब्बत के संग
परिंदे चरिंदे सभी हैं मेरे
कोई हद नहीं है मेरे प्यार की..

बस प्यार ही प्यार है करना मुझे
सब सोच बिचार है करना मुझे
बस प्यार ही प्यार है करना मुझे
सब सोच बिचार है करना मुझे

(बस प्यार ही प्यार है करना मुझे) x 4

Post a Comment

0 Comments