Chhod Diya Lyrics | Baazaar | Arijit Singh | Kanika Kapoor

Presenting the Chhod Diya Lyrics from the movie Baazaar which is sung by Arijit Singh. This is a sad song which is composed by Kanika Kapoor and Lyrics has been penned by Shabbir Ahmed.

Chhod Diya Lyrics | Baazaar | Arijit Singh | Kanika Kapoor
Song - Chhod Diya
Singer - Arijit SIngh
Music Kanika Kapoor
Lyrics - Shabbir Ahmed

Chhod Diya Lyrics - Baazaar

छोड़ दिया वो रास्ता
जिस रास्ते से तुम्म थे गुज़रे
छोड़ दिया वो रास्ता
जिस रास्ते से तुम्म थे गुज़रे

तोड़ दिया वो आईना
जिस आईने पे तेरा अश्क दिखे
मैं शहर में तेरे था गैरों सा
मुझे अपना कोई न मिला
तेरे लम्हों से मेरे ज़ख्मों से
अब तो मैं दूर चला..
रुख न किया उन गलियों का
जिन गलियों में तेरी बातें हो

छोड़ दिया वो रास्ता
जिस रास्ते से तुम्म थे गुज़रे

मैं था मुसाफिर राह का तेरी
तुझ तक मेरा था दायरा
मैं था मुसाफिर राह का तेरी
तुझ तक मेरा था दायरा

मैं भी कभी था रहबर तेरा
खानाबदोश मैं अब ठहरा
खानाबदोश मैं अब ठहरा

छूता नहीं उन फूलों को
जिन फूलों में तेरी खुसबू हो

रूठ गया उन ख्वाबों से
जिन ख्वाबों में तेरा ख्वाब भी हो 

कुछ भी न पाया मैंने सफ़र में
हो के सफ़र का मैं रह गया
कुछ भी न पाया मैंने सफ़र में
हो के सफ़र का मैं रह गया

कागज़ का वो सीधा घर था
भींगते बारिश में बह गया
भींगते बारिश में बह गया

देखूं नहीं उन चांदनी को
जिन चांदनी में तेरी परछाई हो

दूर हूँ मैं इन हवाओं से
ये हवा तुझे छू के भी आई न हो

Chhod Diya Lyrics - Baazaar - English Font

Chhod diya wo raasta
Jis raaste se tum the guzre

Chhod diya wo raasta
Jis raaste se tum the guzre

Tod diya wo aaiina
Jis aaiine pe tera ashk dikhe
Main shahar mein tere
Tha gairon sa
Mujhe apna koi na mila
Tere lamho se mere zakhom se
Ab to main door chala
Rukh na Kiya un galiyon ka
Jin galiyon mein teri baatein ho

Chhod diya wo raasta
Jis raaste se tum the guzre

Main tha musafir raah ka teri
Tujh tak mera tha daayra
Main tha musafir raah ka teri
Tujh tak mera tha daayra

Main bhi kabhi tha rahbar tera
Khanabadosh main ab thahra..
Khanabadosh main ab thahra..

Chhota nahi un phoolon ko
Jin phoolon mein teri khushbo ho

Rooth gaya un khwabon se
Jin khwaabon mein tera khwab bhi ho..

Kuch bhi na paaya maine safar mein
Ho ke safar ka main rah gaya
Kuch bhi na paaya maine safar mein
Ho ke safar ka main rah gaya

Kaagaz ka wo sheeda ghar tha
Bheengte baarish mein bah gaya
Bheengte baarish mein bah gaya

Dekhun nahi un chandni ko
Jin chandni mein teri parchaai ho

Door hoon main in hawaaoon se
Ye Hawa tujhe chho ke bhi aai na ho

Listen to this song on Gaana

Post a Comment

0 Comments