Ye Kaun Aata Hai Tanhaiyon Mein Jaam Liye | Makhdoom Mohiuddin

ये कौन आता है तन्हाइयों में जाम लिए
जिलों में चाँदनी रातों का एहतमाम लिए

चटक रही है किसी याद की कली दिल में
नज़र में रक़्स-ए बहाराँ की सुबहो शाम लिए

हुजूमे बादा-ओ-गुल में हुजूमे याराँ में
किसी निगाह ने झुक कर मेरे सलाम लिए

किसी क़्याल की ख़ुशबू किसी बदन की महक
दर-ए-कफ़स पे खड़ी है सबा पयाम लिए

महक-महक के जगाती रही नसीम-ए-सहर
लबों पे यारे मसीहा नफ़स का नाम लिए

बजा रहा था कहीं दूर कोई शहनाई
उठा हूँ, आँखों में इक ख़्वाब-ए नातमाम लिए

जिलों - परछाहीं, आभा
हुजूमे बादा-ओ-गुल - मदिरा और फूलों के समूह
नसीम-ए-सहर- सुबह की ख़ुशबू
ख़्वाब-ए नातमाम - अधूरा स्वप्न

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

ye kaun aataa hai tanhaaiyon men jaam lie
jilon men chaandanii raaton kaa ehatamaam lie

chaTak rahii hai kisii yaad kii kalii dil men
najr men raks-e bahaaraan kii subaho shaam lie

hujoome baadaa-o-gul men hujoome yaaraan men
kisii nigaah ne jhuk kar mere salaam lie

kisii kyaal kii khushaboo kisii badan kii mahak
dar-e-kafs pe khaDii hai sabaa payaam lie

mahak-mahak ke jagaatii rahii nasiim-e-sahar
labon pe yaare masiihaa nafs kaa naam lie

bajaa rahaa thaa kahiin door koii shahanaaii
uThaa hoon, aankhon men ik khvaab-e naatamaam lie


Post a Comment

0 Comments