Raat Kitni Lyrics | Paltan | Sonu Nigam | Anu Malik | Javed Akhtar

Raat Kitni Lyrics | Paltan | Sonu Nigam | Anu Malik | Javed Akhtar
Singer - Sonu Nigam
Music - Anu Malik 
Lyrics - Javed Akhtar
Music - Prasad Sashte

Raat Kitni Daastane Lyrics

रात कितनी दास्ताने
कह रही है
इक नदी यादों की है जो
बह रही है
मिलने आई है हमसे
बीते हुए लम्हे कल के
कितने पहचाने चेहरे
तन्हाई में है छलके
यूँ तो कोई है कहाँ, कोई कहाँ
याद लेकर आई है सब को यहाँ

रात कितनी दास्ताने
कह रही है

एक माथे पर दमकती
एक बिंदी
एक आँचल जाने क्यों
लहरा रहा है
घर के दरवाज़े पपे
सुंदर सी रंगोली
फिर क्यों त्यौहार मिलने आ रहा है

एक थाली एक कलाई
एक राखी
एक मंदिर एक दीपक
एक उजाला

रात कितनी दास्ताने
कह रही है...

Raat Kitni Daastane Lyrics - English Font

Raat kitni daastane
Kah rahi hai
Ik nadi yaadon ki hai jo
Bah rahi hai
Milne aayi hai humse
Beete hue lamhe kal ke
Kitne pahchane chehehre
Tanhai mein hai chaalke
Yun to koi hai kahan, koi kahan
Yaad lekar aayi hai sabko yahan..

Raat kitni daastane
Kah rahi hai..

Ek maathe par damakti
Ek bindi
Ek aanchal jaane kyu
Lahra raha hai
Ghar ke darwaze pe
Sundar si rangoli
Fir koi tyohar milne
Aa raha hai

Ek thaalai ek kalai
Ek rakhi
Ek mandir ek deepaak
Ek ujala..

Raat kitni daastane
Kah rahi hai..

Post a Comment

0 Comments