Puchhte Ho To Suno, Kaise Basar Hoti hai | Meena Kumari | पूछते हो तो सुनो, कैसे बसर होती है

Puchhte Ho To Suno, Kaise Basar Hoti hai | Meena Kumari | पूछते हो तो सुनो, कैसे बसर होती है
पूछते हो तो सुनो, कैसे बसर होती है
रात ख़ैरात की, सदक़े की सहर होती है

साँस भरने को तो जीना नहीं कहते या रब
दिल ही दुखता है, न अब आस्तीं तर होती है

जैसे जागी हुई आँखों में, चुभें काँच के ख़्वाब
रात इस तरह, दीवानों की बसर होती है

ग़म ही दुश्मन है मेरा, ग़म ही को दिल ढूँढता है
एक लम्हे की जुदाई भी अगर होती है

एक मर्कज़ की तलाश, एक भटकती ख़ुशबू
कभी मंज़िल, कभी तम्हीदे-सफ़र होती है

दिल से अनमोल नगीने को छुपायें तो कहाँ
बारिशे-संग यहाँ आठ पहर होती है

काम आते हैं न आ सकते हैं बे-जाँ अल्फ़ाज़
तर्जमा दर्द की ख़ामोश नज़र होती है.

xxxxxxxxxxxxxxxx

poochhate ho to suno, kaise basar hotii hai
raat khairaat kii, sadake kii sahar hotii hai

saans bharane ko to jiinaa nahiin kahate yaa rab
dil hii dukhataa hai, n ab aastiin tar hotii hai

jaise jaagii huii aankhon men, chubhen kaanch ke khvaab
raat is tarah, diivaanon kii basar hotii hai

gm hii dushman hai meraa, gm hii ko dil DhoonDhataa hai
ek lamhe kii judaaii bhii agar hotii hai

ek markaj kii talaash, ek bhaTakatii khushaboo
kabhii manjil, kabhii tamhiide-safr hotii hai

dil se anamol nagiine ko chhupaayen to kahaan
baarishe-sang yahaan aaTh pahar hotii hai

kaam aate hain n aa sakate hain be-jaan alfaaj
tarjamaa dard kii khaamosh najr hotii hai.

Post a Comment

0 Comments