Mohabbaton ke Dino Ki Yahi Kharabi hai | Waseem Barelvi

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते
इसीलिए तो तुम्हें हम नज़र नहीं आते

मुहब्बतों के दिनों की यही ख़राबी है
ये रूठ जाएँ तो फिर लौटकर नहीं आते

जिन्हें सलीका है तहज़ीब-ए-ग़म समझने का
उन्हीं के रोने में आँसू नज़र नहीं आते

ख़ुशी की आँख में आँसू की भी जगह रखना
बुरे ज़माने कभी पूछकर नहीं आते

बिसाते -इश्क पे बढ़ना किसे नहीं आता
यह और बात कि बचने के घर नहीं आते

'वसीम' जहन बनाते हैं तो वही अख़बार
जो ले के एक भी अच्छी ख़बर नहीं आते

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

Tumhaarii raah men miTTii ke ghar nahiin aate
isiilie to tumhen ham najr nahiin aate

muhabbaton ke dinon kii yahii khraabii hai
ye rooTh jaaen to fir lauTakar nahiin aate

jinhen saliikaa hai tahajiib-e-gm samajhane kaa
unhiin ke rone men aansoo najr nahiin aate

khushii kii aankh men aansoo kii bhii jagah rakhanaa
bure jmaane kabhii poochhakar nahiin aate

bisaate -ishk pe baDhnaa kise nahiin aataa
yah aur baat ki bachane ke ghar nahiin aate

'vasiim' jahan banaate hain to vahii akhbaar
jo le ke ek bhii achchhii khbar nahiin aate

Post a Comment

0 Comments