Mohabbat | Meena Kumari | मुहब्बत | मीना कुमारी

Mohabbat | Meena Kumari | मुहब्बत | मीना कुमारी
मुहब्बत
बहार की फूलों की तरह मुझे अपने जिस्म के रोएं रोएं से
फूटती मालूम हो रही है
मुझे अपने आप पर एक
ऐसे बजरे का गुमान हो रहा है जिसके रेशमी बादबान
तने हुए हों और जिसे
पुरअसरार हवाओं के झोंके आहिस्ता आहिस्ता दूर दूर
पुर सुकून झीलों
रौशन पहाड़ों और
फूलों से ढके हुए गुमनाम ज़ंजीरों की तरफ लिये जा रहे हों
वह और मैं
जब ख़ामोश हो जाते हैं तो हमें
अपने अनकहे, अनसुने अल्फ़ाज़ में
जुगनुओं की मानिंद रह रहकर चमकते दिखाई देते हैं
हमारी गुफ़्तगू की ज़बान
वही है जो
दरख़्तों, फूलों, सितारों और आबशारों की है
यह घने जंगल
और तारीक रात की गुफ़्तगू है जो दिन निकलने पर
अपने पीछे
रौशनी और शबनम के आँसु छोड़ जाती है, महबूब
आह
मुहब्बत!

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

muhabbat
bahaar kii foolon kii tarah mujhe apane jism ke roen roen se
fooTatii maaloom ho rahii hai
mujhe apane aap par ek
aise bajare kaa gumaan ho rahaa hai jisake reshamii baadabaan
tane hue hon aur jise
puraasaraar havaaon ke jhonke aahistaa aahistaa door door
pur sukoon jhiilon
raushan pahaaDon aur
foolon se Dhake hue gumanaam janjiiron kii taraf liye jaa rahe hon
vah aur main
jab khaamosh ho jaate hain to hamen
apane anakahe, anasune alfaaj men
juganuon kii maanind rah rahakar chamakate dikhaaii dete hain
hamaarii guftagoo kii jbaan
vahii hai jo
darakhton, foolon, sitaaron aur aabashaaron kii hai
yah ghane jangal
aur taariik raat kii guftagoo hai jo din nikalane par
apane piichhe
raushanii aur shabanam ke aansu chhoD jaatii hai, mahaboob
aah
muhabbat!

Post a Comment

0 Comments