Kaise Kah Doon Ki Mulakat Nahi Hoti | Shakeel Badayuni | कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है

कैसे कह दूँ कि मुलाकात नहीं होती है
रोज़ मिलते हैं मगर बात नहीं होती है

आप लिल्लाह न देखा करें आईना कभी
दिल का आ जाना बड़ी बात नहीं होती है

छुप के रोता हूँ तेरी याद में दुनिया भर से
कब मेरी आँख से बरसात नहीं होती है

हाल-ए-दिल पूछने वाले तेरी दुनिया में कभी
दिन तो होता है मगर रात नहीं होती है

जब भी मिलते हैं तो कहते हैं कैसे हो "शकील"
इस से आगे तो कोई बात नहीं होती है

xxxxxxxxxxxxxxxxxxx

kaise kah doon ki mulaakaat nahiin hotii hai
roj milate hain magar baat nahiin hotii hai

aap lillaah n dekhaa karen aaiinaa kabhii
dil kaa aa jaanaa baDii baat nahiin hotii hai

chhup ke rotaa hoon terii yaad men duniyaa bhar se
kab merii aankh se barasaat nahiin hotii hai

haal-e-dil poochhane vaale terii duniyaa men kabhii
din to hotaa hai magar raat nahiin hotii hai

jab bhii milate hain to kahate hain kaise ho "shakiil"
is se aage to koii baat nahiin hotii hai

Post a Comment

0 Comments