Gum Hain Kahan Lyrics | Pakhi | Anamika Shukla, Sumeet Kaul & Tanmanya Bali | Prateeksha Srivastava

Gum Hain Kahan Lyrics  | Pakhi | Anamika Shukla, Sumeet Kaul & Tanmanya Bali | Prateeksha Srivastava
Movie - Pakhi
Singer - Prateeksha Srivastava
Music Composer - Shivang Mathur
Lyrics - Shayra Apoorva

Gum Hain Kahan Lyrics - Pakhi

क्यूँ तोड़ी यूँ
तू कांच की एक वो कली
ढूंढे है घर
मुझे ढूंढें मेरी गली

क्यों आये न
नींदों में अब वो परी
ढूंढें मुझे
वो माटी की गुडिया मेरी

सूना पड़ा क्यों अँगना
जाने हम गुम हैं कहाँ .......X2

गुम हैं कहाँ...

हाथों से क्यों
छीनता गया
मेरे हिस्से का आसमान
जाने कहाँ मुड़ता रहा
ये अजनबी सा रास्ता

यादें जो पीछे हैं
खींचे हैं
कैसे अपना मानु
हूँ मैं एक परछाई
घबराई, बस इतना जानू

रेत के घर मेरे
क्यों तोड़े
अब मैं कहाँ जाऊं
उड़ना है बाकी
हूँ मैं पाखी
खुद को मैं समझाऊं

क्यों बारिशें बस आँखें
भींगती रही
डूबी जाए
वो ख्वाबों की कश्ती मेरी

सूना पड़ा क्यों अँगना
जाने हम गुम हैं कहाँ .......X2

गुम हैं कहाँ...

Gum Hain Kahan Lyrics - English Font

Kyun todi yun
Tune kaanch ki ek wo kali
Dhondhe hai ghar
Mujhe dhoondhe meri gali

Kyun aaye na
Neendon mein ab wo pari
Dhoondhe mujhe
Wo maati ki gudiya meri

Soona pada kyun angna
Jaane Hum
Gum Hain Kahan .... X2

Gum Hain Kahan...

Haathon se kyun
Cheenta gaya
Mere hisse ka aasman
Jaane kahan mudta raha
Ye ajnabee sa raasta

Yaaden jo peeche hain
Kheeche hai
Kaise apna maanu
Hoon main ek parchayi
Ghabrayi..Bas itna jaanu

Ret ke ghar mere
Kyun tode
Ab main kahan jaaun?
Udna hai baaki
Hun main paakhi
Khud ko main samjhaun

Kyun? Baarishen bas aankhen
Bhigaati rahi
Doobi jaaye
Wo khwabon ki kashti meri

Soona pada kyun angna
Jaane Hum
Gum Hain Kahan ....

Gum Hain Kahan...

Post a Comment

0 Comments