Aa Ke Tujh Bin Is Tarah Ae Dost

आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त! घबराता हूँ मैं।
जैसे हर शै में किसी शै की कमी पाता हूँ मैं॥

कू-ए-जानाँ की हवा तक से भी थर्राता हूँ मैं।
क्या करूँ बेअख़्तयाराना चला जाता हूँ मैं॥

मेरी हस्ती शौक़-ए-पैहम, मेरी फ़ितरत इज़्तराब।
कोई मंज़िल हो मगर गुज़रा चला जाता हूँ मैं॥4

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

aa ki tujh bin is tarah ai dost! ghabaraataa hoon main.
jaise har shai men kisii shai kii kamii paataa hoon main॥

koo-e-jaanaan kii havaa tak se bhii tharraataa hoon main.
kyaa karoon beakhtayaaraanaa chalaa jaataa hoon main॥

merii hastii shauk-e-paiham, merii fitarat ijtaraab.
koii manjil ho magar gujraa chalaa jaataa hoon main॥

Post a Comment

0 Comments