Tum Hi Nahi Mile Jeevan Mein | GopalDas Neeraj | तुम ही नहीं मिले जीवन में

Tum Hi Nahi Mile Jeevan Mein | GopalDas Neeraj | तुम ही नहीं मिले जीवन में
पीड़ा मिली जनम के द्वारे अपयश नदी किनारे
इतना कुछ मिल पाया एक बस तुम ही नहीं मिले जीवन में

हुई दोस्ती ऐसी दु:ख से
हर मुश्किल बन गई रुबाई,
इतना प्यार जलन कर बैठी
क्वाँरी ही मर गई जुन्हाई,
बगिया में न पपीहा बोला, द्वार न कोई उतरा डोला,
सारा दिन कट गया बीनते काँटे उलझे हुए बसन में।
पीड़ा मिली जनम के द्वारे अपयश नदी किनारे
इतना कुछ मिल पाया एक बस तुम ही नहीं मिले जीवन में

कहीं चुरा ले चोर न कोई
दर्द तुम्हारा, याद तुम्हारी,
इसीलिए जगकर जीवन-भर
आँसू ने की पहरेदारी,
बरखा गई सुने बिन वंशी औ' मधुमास रहा निरवंशी,
गुजर गई हर ऋतु ज्यों कोई भिक्षुक दम तोड़े दे विजन में।
पीड़ा मिली जनम के द्वारे अपयश नदी किनारे
इतना कुछ मिल पाया एक बस तुम ही नहीं मिले जीवन में


घट भरने को छलके पनघट
सेज सजाने दौड़ी कलियाँ,
पर तेरी तलाश में पीछे
छूट गई सब रस की गलियाँ,
सपने खेल न पाए होली, अरमानों के लगी न रोली,
बचपन झुलस गया पतझर में, यौवन भीग गया सावन में।
पीड़ा मिली जनम के द्वारे अपयश नदी किनारे
इतना कुछ मिल पाया एक बस तुम ही नहीं मिले जीवन में

मिट्‍टी तक तो रुंदकर जग में कंकड़ से बन गई खिलौना,
पर हर चोट ब्याह करके भी
मेरा सूना रहा बिछौना,
नहीं कहीं से पाती आई, नहीं कहीं से मिली बधाई
सूनी ही रह गई डाल इस इतने फूलों भरे चमन में।
पीड़ा मिली जनम के द्वारे अपयश नदी किनारे
इतना कुछ मिल पाया एक बस तुम ही नहीं मिले जीवन में

तुम ही हो वो जिसकी खातिर
निशि-दिन घूम रही यह तकली
तुम ही यदि न मिले तो है सब
व्यर्थ कताई असली-नकली,
अब तो और न देर लगाओ, चाहे किसी रूप में आओ,
एक सूत-भर की दूरी है बस दामन में और कफन में।
पीड़ा मिली जनम के द्वारे अपयश नदी किनारे
इतना कुछ मिल पाया एक बस तुम ही नहीं मिले जीवन में

xxxxxxxxxxxxxxxxxx

piiDaa milii janam ke dvaare apayash nadii kinaare
itanaa kuchh mil paayaa ek bas tum hii nahiin mile jiivan men

huii dostii aisii du:kh se
har mushkil ban gaii rubaaii,
itanaa pyaar jalan kar baiThii
kvaanrii hii mar gaii junhaaii,
bagiyaa men n papiihaa bolaa, dvaar n koii utaraa Dolaa,
saaraa din kaT gayaa biinate kaanTe ulajhe hue basan men.
piiDaa milii janam ke dvaare apayash nadii kinaare
itanaa kuchh mil paayaa ek bas tum hii nahiin mile jiivan men

kahiin churaa le chor n koii
dard tumhaaraa, yaad tumhaarii,
isiilie jagakar jiivan-bhar
aansoo ne kii paharedaarii,
barakhaa gaii sune bin vanshii au' madhumaas rahaa niravanshii,
gujar gaii har RRitu jyon koii bhikSuk dam toDe de vijan men.
piiDaa milii janam ke dvaare apayash nadii kinaare
itanaa kuchh mil paayaa ek bas tum hii nahiin mile jiivan men


ghaT bharane ko chhalake panaghaT
sej sajaane dauDii kaliyaan,
par terii talaash men piichhe
chhooT gaii sab ras kii galiyaan,
sapane khel n paae holii, aramaanon ke lagii n rolii,
bachapan jhulas gayaa patajhar men, yauvan bhiig gayaa saavan men.
piiDaa milii janam ke dvaare apayash nadii kinaare
itanaa kuchh mil paayaa ek bas tum hii nahiin mile jiivan men

miT‍Tii tak to rundakar jag men kankaD se ban gaii khilaunaa,
par har choT byaah karake bhii
meraa soonaa rahaa bichhaunaa,
nahiin kahiin se paatii aaii, nahiin kahiin se milii badhaaii
soonii hii rah gaii Daal is itane foolon bhare chaman men.
piiDaa milii janam ke dvaare apayash nadii kinaare
itanaa kuchh mil paayaa ek bas tum hii nahiin mile jiivan men

tum hii ho vo jisakii khaatir
nishi-din ghoom rahii yah takalii
tum hii yadi n mile to hai sab
vyarth kataaii asalii-nakalii,
ab to aur n der lagaao, chaahe kisii roop men aao,
ek soot-bhar kii doorii hai bas daaman men aur kafan men.
piiDaa milii janam ke dvaare apayash nadii kinaare
itanaa kuchh mil paayaa ek bas tum hii nahiin mile jiivan men

Post a Comment

0 Comments