Rang Kuch Sokh Se Tasviir Mein | Mumtaz Mirza | रंग कुछ शोख़ से तस्वीर में भर कर देखो

Rang Kuch Sokh Se Tasviir Mein | Mumtaz Mirza | रंग कुछ शोख़ से तस्वीर में भर कर देखो
रंग कुछ शोख़ से तस्वीर में भर कर देखो 
ज़िंदगी शोख़ है इस शोख़ पे मर कर देखो

एक पल के लिए ‘मुमताज’ ठहर कर देखो
दिल की जानिब भी ज़रा एक नज़र कर देखो

अपनी हस्ती का सनम तोड़ो तो पाओगे नजात
रेत के ज़र्रों की मानिंद बिखर कर देखो

कितना प्यारा है जहाँ कितनी हसीं है ये हयात
यास ओ अंदोह के दरिया से गुज़़र कर देखो

लब-ए-साहिल पे तो ‘मुमताज’ न मिल पाया सुकूँ
सैल-ए-तूफ़ान-ए-हवादिस से गुज़र कर देखो

xxxxxxxxxxxxxxxxxx

rang kuchh shokh se tasviir men bhar kar dekho 
jindagii shokh hai is shokh pe mar kar dekho

ek pal ke lie ‘mumataaj’ Thahar kar dekho
dil kii jaanib bhii jraa ek najr kar dekho

apanii hastii kaa sanam toDo to paaoge najaat
ret ke jrron kii maanind bikhar kar dekho

kitanaa pyaaraa hai jahaan kitanii hasiin hai ye hayaat
yaas o andoh ke dariyaa se gujr kar dekho

lab-e-saahil pe to ‘mumataaj’ n mil paayaa sukoon

sail-e-toofaan-e-havaadis se gujr kar dekho

Post a Comment

0 Comments