Pyar Ki Kahani Chaahiye | Gopal Das Neeraj | प्यार की कहानी चाहिए

Pyar Ki Kahani Chaahiye | Gopal Das Neeraj | प्यार की कहानी चाहिए

आदमी को आदमी बनाने के लिए
जिंदगी में प्यार की कहानी चाहिए
और कहने के लिए कहानी प्यार की
स्याही नहीं, आँखों वाला पानी चाहिए।

जो भी कुछ लुटा रहे हो तुम यहाँ
वो ही बस तुम्हारे साथ जाएगा,
जो छुपाके रखा है तिजोरी में
वो तो धन न कोई काम आएगा,
सोने का ये रंग छूट जाना है
हर किसी का संग छूट जाना है
आखिरी सफर के इंतजाम के लिए
जेब भी कफन में इक लगानी चाहिए।
आदमी को आदमी बनाने के लिए
जिंदगी में प्यार की कहानी चाहिए

रागिनी है एक प्यार की
जिंदगी कि जिसका नाम है
गाके गर कटे तो है सुबह
रोके गर कटे तो शाम है
शब्द और ज्ञान व्यर्थ है
पूजा-पाठ ध्यान व्यर्थ है
आँसुओं को गीतों में बदलने के लिए,
लौ किसी यार से लगानी चाहिए
आदमी को आदमी बनाने के लिए
जिंदगी में प्यार की कहानी चाहिए

जो दु:खों में मुस्कुरा दिया
वो तो इक गुलाब बन गया
दूसरों के हक में जो मिटा
प्यार की किताब बन गया,
आग और अँगारा भूल जा
तेग और दुधारा भूल जा
दर्द को मशाल में बदलने के लिए
अपनी सब जवानी खुद जलानी चाहिए।
आदमी को आदमी बनाने के लिए
जिंदगी में प्यार की कहानी चाहिए

दर्द गर किसी का तेरे पास है
वो खुदा तेरे बहुत करीब है
प्यार का जो रस नहीं है आँखों में
कैसा हो अमीर तू गरीब है
खाता और बही तो रे बहाना है
चैक और सही तो रे बहाना है
सच्ची साख मंडी में कमाने के लिए
दिल की कोई हुंडी भी भुनानी चाहिए।

xxxxxxxxxxxxxxxxxxx

aadamii ko aadamii banaane ke lie
jindagii men pyaar kii kahaanii chaahie
aur kahane ke lie kahaanii pyaar kii
syaahii nahiin, aankhon vaalaa paanii chaahie.

jo bhii kuchh luTaa rahe ho tum yahaan
vo hii bas tumhaare saath jaaegaa,
jo chhupaake rakhaa hai tijorii men
vo to dhan n koii kaam aaegaa,
sone kaa ye rang chhooT jaanaa hai
har kisii kaa sang chhooT jaanaa hai
aakhirii safar ke intajaam ke lie
jeb bhii kafan men ik lagaanii chaahie.
aadamii ko aadamii banaane ke lie
jindagii men pyaar kii kahaanii chaahie

raaginii hai ek pyaar kii
jindagii ki jisakaa naam hai
gaake gar kaTe to hai subah
roke gar kaTe to shaam hai
shabd aur j~naan vyarth hai
poojaa-paaTh dhyaan vyarth hai
aansuon ko giiton men badalane ke lie,
lau kisii yaar se lagaanii chaahie
aadamii ko aadamii banaane ke lie
jindagii men pyaar kii kahaanii chaahie

jo du:khon men muskuraa diyaa
vo to ik gulaab ban gayaa
doosaron ke hak men jo miTaa
pyaar kii kitaab ban gayaa,
aag aur angaaraa bhool jaa
teg aur dudhaaraa bhool jaa
dard ko mashaal men badalane ke lie
apanii sab javaanii khud jalaanii chaahie.
aadamii ko aadamii banaane ke lie
jindagii men pyaar kii kahaanii chaahie

dard gar kisii kaa tere paas hai
vo khudaa tere bahut kariib hai
pyaar kaa jo ras nahiin hai aankhon men
kaisaa ho amiir too gariib hai
khaataa aur bahii to re bahaanaa hai
chaik aur sahii to re bahaanaa hai
sachchii saakh manDii men kamaane ke lie
dil kii koii hunDii bhii bhunaanii chaahie.

Post a Comment

0 Comments