Mere Man Ke Raag Naye Naye | Shamsher Bahadur Singh | मेरे मन के राग नए नए

Mere Man Ke Raag Naye Naye | Shamsher Bahadur Singh | मेरे मन के राग नए नए
मेरे मन के राग नए-नए,
तुझे गीत में जो बुला गए,
वो न जाने किस के गले लगे,
वो न जाने किस को सुहा गए !

हमें आज यह भी ख़बर नहीं
कि वही फलक हैं, वही ज़मीं
वही चाँदनी है कि यह हमीं
कोई ख़ाब है कि दिखा गए !

मुझे कितना-कितना दुखा गई,
मेरे दिल को छलनी बना गई—
वही टीस-सी, वही आह-सी
जिसे हम जरा-सा दबा अए !

वो है लाख दुश्मने-जाँ तो क्या,
मेरा दिल उन्हीं पे फ़िदा हुआ,
वो जो दिल को आग लगा गए,
मेरी ज़िन्दगी में समा गए !

हमें 'शम्स' पर बड़ा नाज़ था,
उन्हें हम समझते थे पारसा,
मगर आख़िर-आख़िरे-इम्तहाँ,
वही अपना रंग दिखा गए ।

xxxxxxxxxx

mere man ke raag nae-nae,
tujhe giit men jo bulaa gae,
vo n jaane kis ke gale lage,
vo n jaane kis ko suhaa gaenbsp;!

hamen aaj yah bhii khbar nahiin
ki vahii falak hain, vahii jmiin
vahii chaandanii hai ki yah hamiin
koii khaab hai ki dikhaa gaenbsp;!

mujhe kitanaa-kitanaa dukhaa gaii,
mere dil ko chhalanii banaa gaii—
vahii Tiis-sii, vahii aah-sii
jise ham jaraa-saa dabaa aenbsp;!

vo hai laakh dushmane-jaan to kyaa,
meraa dil unhiin pe fidaa huaa,
vo jo dil ko aag lagaa gae,
merii jindagii men samaa gaenbsp;!

hamen 'shams' par baDaa naaj thaa,
unhen ham samajhate the paarasaa,
magar aakhir-aakhire-imtahaan,
vahii apanaa rang dikhaa gae .

Post a Comment

0 Comments