Mere Jeevan Ki Dharm Tum Hi | Muktibodh | मेरे जीवन की धर्म तुम्ही-

Mere Jeevan Ki Dharm Tum Hi | Muktibodh |  मेरे जीवन की धर्म तुम्ही-

गजानन माधव मुक्तिबोध द्वारा लिखी एक बेहद खूबसूरत कविता - मेरे जीवन की धर्म तुम ही 

मेरे जीवन की धर्म तुम्ही--
यद्यपि पालन में रही चूक
हे मर्म-स्पर्शिनी आत्मीये!

मैदान-धूप में--
अन्यमनस्का एक और
सिमटी छाया-सा उदासीन
रहता-सा दिखता हूँ यद्यपि खोया-खोया
निज में डूबा-सा भूला-सा
लेकिन मैं रहा घूमता भी
कर अपने अन्तर में धारण
प्रज्ज्वलित ज्ञान का विक्षोभी
व्यापक दिन आग बबूला-सा
मैं यद्यपि भूला-भूला सा
ज्यों बातचीत के शब्द-शोर में एक वाक्य
अनबोला-सा!
मेरे जीवन की तुम्ही धर्म
(मैं सच कह दूँ--
यद्यपि पालन में चूक रही)
नाराज़ न हो सम्पन्न करो
यह अग्नि-विधायक प्राण-कर्म
हे मर्म-स्पर्शिनी सहचारिणि!

था यद्यपि भूला-भूला सा
पर एक केन्द्र की तेजस्वी अन्वेष-लक्ष्य
आँखों से उर में लाखों को
अंकित करता तौलता रहा
मापता रहा
आधुनिक हँसी के सभ्य चाँद का श्वेत वक्ष
खोजता रहा उस एक विश्व 
के सारे पर्वत-गुहा-गर्त
मैंने प्रकाश-चादर की मापी उस पर पीली गिरी पर्त
उस एक केन्द्र की आँखों से देखे मैंने
एक से दूसरे में घुसकर
आधुनिक भवन के सभी कक्ष
उस एक केन्द्र के ही सम्मुख
मैं हूँ विनम्र-अन्तर नत-मुख
ज्यों लक्ष्य फूल-पत्तों वाली वृक्ष की शाख
आज भी तुम्हारे वातायान में रही झाँक
सुख फैली मीठी छायाओं के सौ सुख!

मेरे जीवन का तुम्ही धर्म
यद्यपि पालन में रही चूक
हे मर्म-स्पर्शिनी आत्मीये!
सच है कि तुम्हारे छोह भरी
व्यक्तित्वमयी गहरी छाँहों से बहुत दूर
मैं रहा विदेशों में खोया पथ-भूला सा
अन-खोला ही
वक्ष पर रहा लौह-कवच
बाहर के ह्रास मनोमय लोभों लाभों से
हिय रहा अनाहत स्पन्दन सच,
ये प्राण रहे दुर्भेद्य अथक
आधुनिक मोह के अमित रूप अमिताभों से।

xxxxxxxxxx

mere jiivan kii dharm tumhii--
yadyapi paalan men rahii chook
he marm-sparshinii aatmiiye!

maidaan-dhoop men--
anyamanaskaa ek aur
simaTii chhaayaa-saa udaasiin
rahataa-saa dikhataa hoon yadyapi khoyaa-khoyaa
nij men Doobaa-saa bhoolaa-saa
lekin main rahaa ghoomataa bhii
kar apane antar men dhaaraN
prajjvalit j~naan kaa vikSobhii
vyaapak din aag baboolaa-saa
main yadyapi bhoolaa-bhoolaa saa
jyon baatachiit ke shabd-shor men ek vaaky
anabolaa-saa!
mere jiivan kii tumhii dharm
(main sach kah doon--
yadyapi paalan men chook rahii)
naaraaj n ho sampann karo
yah agni-vidhaayak praaN-karm
he marm-sparshinii sahachaariNi!

thaa yadyapi bhoolaa-bhoolaa saa
par ek kendr kii tejasvii anveS-lakSy
aankhon se ur men laakhon ko
ankit karataa taulataa rahaa
maapataa rahaa
aadhunik hansii ke sabhy chaand kaa shvet vakS
khojataa rahaa us ek vishv 
ke saare parvat-guhaa-gart
mainne prakaash-chaadar kii maapii us par piilii girii part
us ek kendr kii aankhon se dekhe mainne
ek se doosare men ghusakar
aadhunik bhavan ke sabhii kakS
us ek kendr ke hii sammukh
main hoon vinamr-antar nat-mukh
jyon lakSy fool-patton vaalii vRikS kii shaakh
aaj bhii tumhaare vaataayaan men rahii jhaank
sukh failii miiThii chhaayaaon ke sau sukh!

mere jiivan kaa tumhii dharm
yadyapi paalan men rahii chook
he marm-sparshinii aatmiiye!
sach hai ki tumhaare chhoh bharii
vyaktitvamayii gaharii chhaanhon se bahut door
main rahaa videshon men khoyaa path-bhoolaa saa
an-kholaa hii
vakS par rahaa lauh-kavach
baahar ke hraas manomay lobhon laabhon se
hiy rahaa anaahat spandan sach,
ye praaN rahe durbhedy athak

aadhunik moh ke amit roop amitaabhon se.

Post a Comment

0 Comments