Koi Taanvaan Taanvaan Si Roshni Hai | Deepti Naval | कोई टाँवाँ-टाँवाँ रोशनी है

Koi Taanvaan Taanvaan Si Roshni Hai | Deepti Naval | कोई टाँवाँ-टाँवाँ रोशनी है

कोई टाँवाँ-टाँवाँ रोशनी है, दीप्ति नवल द्वारा लिखित एक कविता पढ़िए - 

कोई टाँवाँ-टाँवाँ रोशनी है
चाँदनी उतर आयी बर्फ़ीली चोटियोँ से
तमाम वादी गूँजती है बस एक ही सुर में

ख़ामोशी की यह आवाज़
होती है…
तुम कहा करते हो न!

इस क़दर सुकून कि जैसे सच नहीं हो सब

यह रात चुरा ली है मैनें
अपनी ज़िन्दगी से अपने ही लिये

xxxxxxxxxxx

koii Taanvaan-Taanvaan roshanii hai
chaandanii utar aayii barfiilii choTiyon se
tamaam vaadii goonjatii hai bas ek hii sur men

khaamoshii kii yah aavaaj
hotii hai…
tum kahaa karate ho n!

is kdar sukoon ki jaise sach nahiin ho sab

yah raat churaa lii hai mainen

apanii jindagii se apane hii liye

Post a Comment

0 Comments