Khushi Mili To Ye Aalam Tha Badhavaasi Ka | ख़ुशी मिली तो ये आलम था बद-हवासी का

ख़ुशी मिली तो ये आलम था बद-हवासी का
के ध्यान ही न रहा ग़म की बे-लिबासी का

चमक उठे हैं जो दिल के कलस यहाँ से अभी
गुज़र हुआ है ख़यालों की देव-दासी का

गुज़र न जा यूँही रुख़ फेर कर सलाम तो ले
हमें तो देर से दावा है रू-शनासी का

ख़ुदा को मान के तुझ लब के चूमने के सिवा
कोई इलाज नहीं आज की उदासी का

गिरे पड़े हुए पत्तों में शहर ढूँढता है
अजीब तौर है इस जंगलों के बासी का

Khushi Mili to Ye Aalam Tha Bad-Havaasii kaa

khushii milii to ye aalam thaa bad-havaasii kaa
ke dhyaan hii n rahaa gm kii be-libaasii kaa

chamak uThe hain jo dil ke kalas yahaan se abhii
gujr huaa hai khyaalon kii dev-daasii kaa

gujr n jaa yoonhii rukh fer kar salaam to le
hamen to der se daavaa hai roo-shanaasii kaa

khudaa ko maan ke tujh lab ke choomane ke sivaa
koii ilaaj nahiin aaj kii udaasii kaa

gire paDe hue patton men shahar DhoonDhataa hai
ajiib taur hai is jangalon ke baasii kaa

Post a Comment

0 Comments