Julf Ghataa Ban Kar Rah Jaae | Kaiser Ul Jafri | ज़ुल्फ़ घटा बन कर रह जाए आँख कँवल हो जाए

ज़ुल्फ़ घटा बन कर रह जाए आँख कँवल हो जाए
शायद उन को पल भर सोचें और ग़ज़ल हो जाए 

जिस दीपक को हाथ लगा दो जलें हज़ारों साल 
जिस कुटिया में रात बीता दो ताज-महल हो जाए 

कितनी यादें आ जाती है दस्तक दिए बगैर 
अब ऐसी भी क्या वीरानी घर जंगल हो जाए 

तुम आओ तो पंख लगा कर उड़ जाए ये शाम 
मीलों लम्बी रात सिमट कर पल दो पल हो जाए

xxxxxxxxxxxxxx

julf ghaTaa ban kar rah jaae aankh kanval ho jaae
shaayad un ko pal bhar sochen aur gjl ho jaae 

jis diipak ko haath lagaa do jalen hajaaron saal 
jis kuTiyaa men raat biitaa do taaj-mahal ho jaae 

kitanii yaaden aa jaatii hai dastak die bagair 
ab aisii bhii kyaa viiraanii ghar jangal ho jaae 

tum aao to pankh lagaa kar uD jaae ye shaam 
miilon lambii raat simaT kar pal do pal ho jaae

Post a Comment

0 Comments