Hari Hari Doob Par | Atal Bihari Vajpayee | हरी हरी दूब पर

हरी हरी दूब पर
ओस की बूंदे
अभी थी,
अभी नहीं हैं|
ऐसी खुशियाँ
जो हमेशा हमारा साथ दें
कभी नहीं थी,
कहीं नहीं हैं|

क्काँयर की कोख से
फूटा बाल सूर्य,
जब पूरब की गोद में
पाँव फैलाने लगा,
तो मेरी बगीची का
पत्ता-पत्ता जगमगाने लगा,
मैं उगते सूर्य को नमस्कार करूँ
या उसके ताप से भाप बनी,
ओस की बुँदों को ढूंढूँ?

सूर्य एक सत्य है
जिसे झुठलाया नहीं जा सकता
मगर ओस भी तो एक सच्चाई है
यह बात अलग है कि ओस क्षणिक है
क्यों न मैं क्षण क्षण को जिऊँ?
कण-कण मेँ बिखरे सौन्दर्य को पिऊँ?

सूर्य तो फिर भी उगेगा,
धूप तो फिर भी खिलेगी,
लेकिन मेरी बगीची की
हरी-हरी दूब पर,
ओस की बूंद
हर मौसम में नहीं मिलेगी|

xxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxxx

harii harii doob par
os kii boonde
abhii thii,
abhii nahiin hain.
aisii khushiyaan
jo hameshaa hamaaraa saath den
kabhii nahiin thii,
kahiin nahiin hain.

kkaanyar kii kokh se
fooTaa baal soory,
jab poorab kii god men
paanv failaane lagaa,
to merii bagiichii kaa
pattaa-pattaa jagamagaane lagaa,
main ugate soory ko namaskaar karoon
yaa usake taap se bhaap banii,
os kii bundon ko DhoonDhoon?

soory ek saty hai
jise jhuThalaayaa nahiin jaa sakataa
magar os bhii to ek sachchaaii hai
yah baat alag hai ki os kSaNik hai
kyon n main kSaN kSaN ko jioon?
kaN-kaN men bikhare saundary ko pioon?

soory to fir bhii ugegaa,
dhoop to fir bhii khilegii,
lekin merii bagiichii kii
harii-harii doob par,
os kii boond
har mausam men nahiin milegii.

Post a Comment

0 Comments