Ae Waaye Aadmi | Ghazal By Josh Malihabadi | ऐ वाये आदमी | जोश महिलावादी

person josh r4h7kmW

ख़ुशियाँ मनाने पर भी है मजबूर आदमी
आँसू बहाने पर भी है मजबूर आदमी
और मुस्‍कराने पर भी है मजबूर आदमी
दुनिया में आने पर भी है मजबूर आदमी
दुनिया से जाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी
मजबूरो-दिलशिकस्‍ता-ओ-रंजूर आदमी
ऐ वाये आदमी

क्‍या बात आदमी की कहूँ तुझसे हमनशीं
इस नातवाँ के क़ब्‍ज़ा-ए-कुदरत में कुछ नहीं
रहता है गाह हुजरा-ए-एजाज़ में मकीं
पर जिन्‍दगी उलटती है जिस वक़्त आस्‍तीं
इज़्ज़त गँवाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

इन्‍सान को हवस है जिये सूरते-खिंजर
ऐसा कोई जतन हो कि बन जाइये अमर
ता-रोजे-हश्र मौत न फटके इधर-उधर
पर ज़ीस्‍त जब बदलती है करवट कराह कर
तो सर कटाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

दिल को बहुत है हँसने-हँसाने की आरज़ू
हर सुबहो-शाम जश्‍न मनाने की आरज़ू
गाने की और ढोल बजाने की आरज़ू
पीने की आरज़ू है पिलाने की आरज़ू
और ज़हर खाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

हर दिल में है निशातो-मसर्रत की तश्‍नगी
देखो जिसे वो चीख़ रहा है ख़शी, ख़शी
इस कारगाहे-फित्‍ना में लेकिन कभी-कभी
फ़रज़न्‍दे-नौजवानो-उरूसे-जमील की
मय्यत उठाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

हर दिल का हुक्‍म है कि रफ़ाक़त का दम भरो
अहबाब को हँसाओ मियाँ, आप भी हँसो
छूटे न दोस्‍ती का तअ़ल्‍लुक़, जो हो सो हो
लेकिन ज़रा-सी देर में याराने-ख़ास को
ठोकर लगाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

मक्‍खी भी बैठ जाये कभी नाक पर अगर
ग़ैरत से हिलने लगता है मरदानगी का सर
इज़्ज़त पे हर्फ आये तो देता है बढ़ के सर
और गाह  रोज़ ग़ैर के बिस्‍तर पे रात भर
जोरू सुलाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

रिफ़अ़त-पसंद है बहुत इन्‍सान का मिज़ाज
परचम उड़ा के शान से रखता है सर पे ताज
होता है ओछेपन के तसव्‍वुर से इख्तिलाज
लेकिन हर इक गली में ब-फ़रमाने-एहतजाज
बन्‍दर नचाने पर भी है मजबूर आदमी
ऐ वाये आदमी

दिल हाथ से निकलता है जिस बुत की चाल से
मौंजें लहू में उठती हैं जिसके ख़्याल से
सर पर पहाड़ गिरता है जिसके मलाल से
यारो कभी-कभी उसी रंगीं-जमाल से
आँखें चुराने पर भी है मजबूर आदमी

ऐ वाये आदमी

xxxxxxxxxxxxxxx

khushiyaan manaane par bhii hai majaboor aadamii
aansoo bahaane par bhii hai majaboor aadamii
aur mus‍karaane par bhii hai majaboor aadamii
duniyaa men aane par bhii hai majaboor aadamii
duniyaa se jaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii [1]
majabooro-dilashikas‍taa-o-ranjoor [2] aadamii
ai vaaye aadamii

k‍yaa baat aadamii kii kahoon tujhase hamanashiin
is naatavaan ke kb‍jaa-e-kudarat men kuchh nahiin
rahataa hai gaah hujaraa-e-ejaaj [3] men makiin [4]
par jin‍dagii ulaTatii hai jis vakt aas‍tiin
ijjt ganvaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

in‍saan ko havas hai jiye soorate-khinjar [5]
aisaa koii jatan ho ki ban jaaiye amar
taa-roje-hashr maut n faTake idhar-udhar
par jiis‍t jab badalatii hai karavaT karaah kar
to sar kaTaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

dil ko bahut hai hansane-hansaane kii aarajoo
har subaho-shaam jash‍n manaane kii aarajoo
gaane kii aur Dhol bajaane kii aarajoo
piine kii aarajoo hai pilaane kii aarajoo
aur jhar khaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

har dil men hai nishaato-masarrat kii tash‍nagii
dekho jise vo chiikh rahaa hai khshii, khshii
is kaaragaahe-fit‍naa men lekin kabhii-kabhii
frajn‍de-naujavaano-uroose-jamiil [6] kii
mayyat uThaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

har dil kaa huk‍m hai ki rafaakt [7] kaa dam bharo
ahabaab ko hansaao miyaan, aap bhii hanso
chhooTe n dos‍tii kaa taal‍luk, jo ho so ho
lekin jraa-sii der men yaaraane-khaas ko
Thokar lagaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

mak‍khii bhii baiTh jaaye kabhii naak par agar
gairat se hilane lagataa hai maradaanagii kaa sar
ijjt pe harf aaye to detaa hai baDh ke sar
aur gaah [8] roj gair ke bis‍tar pe raat bhar
joroo sulaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

rifaat-pasand [9] hai bahut in‍saan kaa mijaaj
paracham uDaa ke shaan se rakhataa hai sar pe taaj
hotaa hai ochhepan ke tasav‍vur se ikhtilaaj [10]
lekin har ik galii men b-framaane-ehatajaaj [11]
ban‍dar nachaane par bhii hai majaboor aadamii
ai vaaye aadamii

dil haath se nikalataa hai jis but kii chaal se
maunjen lahoo men uThatii hain jisake khyaal se
sar par pahaaD girataa hai jisake malaal se
yaaro kabhii-kabhii usii rangiin-jamaal [12] se
aankhen churaane par bhii hai majaboor aadamii

ai vaaye aadamii

Latest Lyrics

Teri Nazar Lyrics – 99 Songs – AR Rahman

Teri Nazar Lyrics by Shashwat Singh from 99 Songs is latest song with music given by AR Rahman. Teri nazar song lyrics are written...

Faraar Song Lyrics – Sandeep aur Pinky Faraar

Faraar Song is from the movie Sandeep aur Pinky Faraar. The song has been composed and sung by Anu Malik while the lyrics of...

Laadki Lyrics – Angrezi Medium – Rekha Bhardwaj

Laadki Lyrics from Angrezi Medium is latest Hindi song sung by Rekha Bhardwaj and Sachin-Jigar. Laadki song lyrics are written by Priya Saraiya and...

Yaad Aayega Lyrics – Abhay Jodhpurkar – R Naaz

Yaad Aayega Lyrics is the latest 2020 song sung by Abhay Jodhpurkar and R Naaz. The music has been composed by Sourav Roy while...

Alag mera ye rang hai Lyrics – Amruta Fadanvis

The song Alag mera ye rang hai is the song sung by Amruta Fadanvis and composed by Kaamod Subhash. The song lyrics of Alag...

You would love this!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay on op - Ge the daily news in your inbox