Sawan Bhaado Saath Hi Din Hain Fir Wo Rut Ki Baat Kahan | सावन-भादों साठ ही दिन हैं फिर वो रुत की बात कहाँ | इब्ने इंशा

Sawan Bhaado Saath Hi Din Hain Fir Wo Rut Ki Baat Kahan | सावन-भादों साठ ही दिन हैं फिर वो रुत की बात कहाँ | इब्ने इंशा
सावन-भादों साठ ही दिन हैं फिर वो रुत की बात कहाँ
अपने अश्क मुसलसल बरसें अपनी-सी बरसात कहाँ

चाँद ने क्या-क्या मंज़िल कर ली निकला, चमका, डूब गया
हम जो आँख झपक लें सो लें ऎ दिल हमको रात कहाँ

पीत का कारोबार बहुत है अब तो और भी फैल चला
और जो काम जहाँ को देखें, फुरसत दे हालात कहाँ

क़ैस का नाम सुना ही होगा हमसे भी मुलाक़ात करो
इश्क़ो-जुनूँ की मंज़िल मुश्किल सबकी ये औक़ात कहाँ

-----X-----

saavan-bhaadon saaTh hii din hain fir vo rut kii baat kahaan
apane ashk musalasal barasen apanii-sii barasaat kahaan

chaand ne kyaa-kyaa manjil kar lii nikalaa, chamakaa, Doob gayaa
ham jo aankh jhapak len so len ai dil hamako raat kahaan

piit kaa kaarobaar bahut hai ab to aur bhii fail chalaa
aur jo kaam jahaan ko dekhen, furasat de haalaat kahaan

kais kaa naam sunaa hii hogaa hamase bhii mulaakaat karo
ishko-junoon kii manjil mushkil sabakii ye aukaat kahaan

Post a Comment

0 Comments