Aisa Kabhi Song Lyrics | Untouchables | A Web Original By Vikram Bhatt

Aisa Kabhi (Full Song) | Untouchables | A Web Original By Vikram Bhatt

Song – Aisa Kabhi
Web Series – Untouchables
Singer – Yaseer Desai
Lyrics  – Shakeel Azmi
Music Label – VB On The Web

Aisa Kabhi Lyrics – English Font

Sukhi Zamin Hain
Deede Zamin Ko
Ek Boond Barish Khuda

Sheene Ki Tah Mein
Rakhde Chupa Ke
Jeene ki Khwahis Khuda

Thooda Sa Hai
Thoda Nahi
Pura Mille Ho Aisa Kabhi
Aisa Kabhi Ho
Aisa Kabhi

Sukhi Zamin Hain
Deede Zamin Ko
Ek Boond Barish Khuda

Sheene Ki Tah Mein
Rakhde Chupa Ke
Jeene ki Khwahis Khuda

Berang Shamein, Dhundhula Sabera
Din Mein Hai Sooraj Bujha
Ratoon Se Nendein
Nendoon Se Aakhein
Aakhoon Se Sapne Judaa

Barsho Chalta Hai Ek Rashta
Milti Kyun Manzil Nahi
Hum Bhi Hai Tanha
Dil Bhi Hai Tanha
Mahfil Bhi Mahfil Nahi

Thooda Sa Hai
Thoda Nahi
Pura Mille Ho Aisa Kabhi
Aisa Kabhi Ho
Aisa Kabhi

Sukhi Zamin Hai
Deede Zamin Ko
Ek Boond Barish Khuda

Sheene Ki Tah Mein
Rakhde Chupa Ke
Jeene ki Khwahis Khuda

Sheene Mein Dhadkan
Dil Mein Mohabbat
Aakhoon Mein Badal Nahi
Tasveer Saari Aadhi Adhoori
Hooti Mukamal Nahi

Sahar Wafa Mein
Na Dosti Hai
Na Dostoon ka Nishaan
Kismat Mein Likh De
Dushman Hi Koi
Dedoon Main Jisko Ye Jaan

Thooda Sa Hai
Thoda Nahi
Pura Mille Ho Aisa Kabhi
Aisa Kabhi Ho
Aisa Kabhi

Sukhi Zamin Hai
Deede Zamin Ko
Ek Boond Barish Khuda

Sheene Ki Tah Mein
Rakhde Chupa Ke
Jeene ki Khwahis Khuda

Aisa Kabhi Lyrics - Hindi Font

सुखी ज़मीन हैं
दीदे ज़मीन को
एक बूँद बारिश खुदा

सीने की तह में
रखदे छुपा के
जीने की ख्वाहिस खुदा

थोड़ा सा है
थोड़ा नहीं
पूरा मिले हो ऐसा कभी
ऐसा कभी हो
ऐसा कभी

सुखी ज़मीन हैं
दीदे ज़मीन को
एक बूँद बारिश खुदा

सीने की तह में
रखदे छुपा के
जीने की ख्वाहिस खुदा

बेरंग शामें, धुंधुला सबेरा
दिन में है सूरज बुझा
रातों से नींदें
नंदू से आखें
आखों से सपने जुड़ा

बर्षो चलता है एक राष्ट
मिलती क्यों मंज़िल नहीं
हम भी है तनहा
दिल भी है तनहा
महफ़िल भी महफ़िल नहीं

थोड़ा सा है
थोड़ा नहीं
पूरा मिले हो ऐसा कभी
ऐसा कभी हो
ऐसा कभी

सुखी ज़मीन है
दीदे ज़मीन को
एक बूँद बारिश खुदा

सीने की तह में
रखदे छुपा के
जीने की ख्वाहिस खुदा

सीने में धड़कन
दिल में मोहब्बत
आखों में बदल नहीं
तस्वीर साड़ी आधी अधूरी
होती मुकमल नहीं

सहर वफ़ा में
न दोस्ती है
न दोस्तोन का निशान
किस्मत में लिख दे
दुश्मन ही कोई
देदूं मैं जिसको ये जान

थोड़ा सा है
थोड़ा नहीं
पूरा मिले हो ऐसा कभी
ऐसा कभी हो
ऐसा कभी

सुखी ज़मीन है
दीदे ज़मीन को
एक बूँद बारिश खुदा

सीने की तह में
रखदे छुपा के
जीने की ख्वाहिस खुदा

Post a Comment

0 Comments