Sham Ke Waqt Safar Kya Karte - Parveen Shakir | शाम के वक़्त सफ़र क्या करते - परवीन शाकिर


अब भला छोड़ के घर क्या करते 
शाम के वक़्त सफ़र क्या करते 

तेरी मसरूफ़ियतें जानते हैं 
अपने आने की ख़बर क्या करते 

जब सितारे ही नहीं मिल पाए 
ले के हम शम्स-ओ-क़मर क्या करते 

वो मुसाफ़िर ही खुली धूप का था 
साए फैला के शजर क्या करते 

ख़ाक ही अव्वल ओ आख़िर ठहरी 
कर के ज़र्रे को गुहर क्या करते 

राय पहले से बना ली तू ने 
दिल में अब हम तिरे घर क्या करते 

इश्क़ ने सारे सलीक़े बख़्शे 
हुस्न से कस्ब-ए-हुनर क्या करते 

X---------------X

Ab bhala chhod ke ghar kya karte 
Shaam ke vaqt safar kya karte

Teri masrufiyaten jante hain 
Apne aane ki ḳhabar kya karte 

Jab sitare hi nahin mil paae 
Le ke ham shams-o-qamar kya karte 

Vo musafir hi khuli dhuup ka tha 
Saae phaila ke shajar kya karte 

Khaak hi avval o aḳhir Thahri 
Kar ke zarre ko guhar kya karte 

Raae pahle se bana li tu ne 
Dil men ab ham tire ghar kya karte 

Ishq ne saare saliqe baḳhshe 
Husn se kasb-e-hunar kya karte

Post a Comment

0 Comments