मैं ने जब लिखना सीखा था - नासिर काज़मी | Maine Jab Likhna Seekha Tha - Nasir Kazmi

Maine Jab Likhna Seekha Tha - Nasir Kazmi - Romantic ghazal

मैं ने जब लिखना सीखा था 
पहले तेरा नाम लिखा था 

मैं वो सब्र-ए-समीम हूँ जिस ने 
बार-ए-अमानत सर पे लिया था 

मैं वो इस्म-ए-अज़ीम हूँ जिस को 
जिन ओ मलक ने सज्दा किया था 

तू ने क्यूँ मिरा हाथ न पकड़ा 
मैं जब रस्ते से भटका था 

जो पाया है वो तेरा है 
जो खोया वो भी तेरा था 

तुझ बिन सारी उम्र गुज़ारी 
लोग कहेंगे तू मेरा था 

पहली बारिश भेजने वाले 
मैं तिरे दर्शन का प्यासा था 

X---------------------X

Maine jab likhna seekha tha
Pahle tera naam likha tha 

Main wo sabr-e-samim hoon jis ne 
Baar-e-amanat sar pe liya tha 

Main wo ilm-e-azeem hoon jis ko 
Jin o malak ne sajdaa kiya tha 

Tu ne kyu mera haath na pakda 
Main jab raaste se bhatka tha

Jo paya hai wo tera hai
Jo khoya wo bhi tera tha 

Tujh bin saari umr guzari
Log kahenge tu mera tha

Pahli baarish bhejne waale 
Main tere darshan ka pyasa tha 

Post a Comment

0 Comments