मन बेकैद हुआ | मेरा बालम बम्बईया | अनारकली ऑफ़ आरा | Man Beqaid Hua | Anarkali Of Aarah



Song : Man Beqaid Hua
Singers: Sonu Nigam
Song Lyricists: Prashant Ingole
Director: Avinash Das
Music Label: Zee Music Company



मिटटी जिस्म की गीली हो चली 
मिटटी जिस्म की..
खुशबु इसकी रूह तक घुली 
खुशबु इसकी...

इक लम्हा बनके आया है 
सब ज़ख्मों का वैध 
मन बेकैद हुआ..मन बेकैद 
मन बेकैद हुआ..मन बेकैद 

रफ्ता रफ्ता मुश्किलें 
अपने आप खो रही 
इत्मीनान से कशमकश कहीं जाके सो रही 
दस्तक देने लगी हवा अब चट्टानों पे...
जिंदा है तो किसका बस है अरमानों पे...
कोई सेहरा बांधे आया है, सद ज़ख्मों का वैध 
मन बेकैद हुआ..मन बेकैद 
मन बेकैद हुआ..मन बेकैद 

अब तलक जो थे दबें...राज़ वो खुल रहें...
दरमियाँ के फासले, इक रंग में घुल रहे ..
दो साँसों से जली जो लौ अब वो काफी है 
मेरी भीतर कुछ न रहा पर तू बाकी है 
ईक कतरा बनके आया है, सद ज़ख्मों का वैध 
मन बेकैद हुआ..मन बेकैद 
मन बेकैद हुआ..मन बेकैद 

X-------------X

Mitti jism ki geeli ho chali
Mitti jism ki
Khushboo iski rooh tak ghuli
Khushboo iski

Ik lamha banke aaya hai
Sadh zakhmon ka vaidh
Mann beqaid huva
Mann beqaid, Mann beqaid huva
Mann beqaid

Rafta rafta muskilein, Apne aap kho rahi
Itminaan se kashmakash kahi jaake so rahi
Dastak dene lagi hawa ab chatanon pe
Zinda hao toh kiska bas hai Armaanon pe 
koi sehra bandhe aaya hai, Sadh zakhmon ka vedh
Mann beqaid huva, Mann beqaid
Mann beqaid huva, Mann beqaid

Ab talak jo the dabein
Raaz wo khul rahein
Darmiyan ki faslein
Ik rang mein ghul rahein
Do saanson se jali jo lau ab wo khaffi hai
Meri bhitar kuch na rha par tu baki hai
Ik katara banke aaya hai
Sadh zakhmon ka vedh
Mann beqaid huva, Mann beqaid
Mann beqaid huva, Mann beqaid…






Song - Mora Balam Bambaiya 
Singer : Pavni Pandey

मारे शर्म के मैं नीचे गड़ी थी 
अंगिया समाये न जोबन बड़ी थी 
मारे शर्म के मैं नीचे गड़ी थी 
अंगिया समाये न जोबन बड़ी थी 

पीछे से मारा जो धक्का 
कसम से अनाड़ी बनाया रे 
पीछे से मारा जो धक्का 
कसम से अनाड़ी बनाया रे 
मोरा बालम बम्बईया बनारस से 
साड़ी मंगाया रे... 

उसके बिना मैं तो प्यासी मरी थी 
आँखों से उनकी ये आँखें लड़ी थी 
उसके बिना मैं तो प्यासी मरी थी 
आँखों से उनकी ये आँखें लड़ी थी 
हमपर हुमच के हवा में 
हर्रामी ने गाड़ी उड़ाया रे 
हमपर हुमच के हवा में 
हर्रामी ने गाड़ी उड़ाया रे 
मोरा बालम बम्बईया बनारस से 
साड़ी मंगाया रे..

धुक धुक कलेजा था कैसी घड़ी थी 
चेहरे की जैसे  हवाई उड़ी थी 
धुक धुक कलेजा था कैसी घड़ी थी 
चेहरे की जैसे  हवाई उड़ी थी 
सोलह तरह से बदन को निहारा 
बालम बौराया रे...

मेरा बालम बम्बईया बनारस से 
साड़ी मंगाया रे...

X----------X

Mhare sharam ke main neeche ghadi thi
Angiya samaye na joban padi thi
Re mhare sharam ke main neeche ghadi thi
Angiya samaye na joban padi thi

Peeche se mahra jo dhakka
Kasam se anaadi banaya re
Re peeche se mahra jo dhakka
Kasam se anaadi banaya re
Mora balam bambaiya banaras se
Saadi mangaya re

Uske bina main to pyasi mari thi
Aankhon se unki ye aankhe ladi thi
Haye uske bina main to pyasi mari thi
Aankhon se unki ye aankhe ladi thi
Humpar humch ke hawa mein
Harrami ne gaadi udaya re
Humpar humch ke hawa mein
Harrami ne gaadi udaya re
Hey hey hey
Mora balam bambaiya banaras se
Saadi mangayi re

Dhuk dhuk kaleza tha kaisi ghadi thi
Chehre ki jaise hawaye udi thi
Dhuk dhuk kaleza tha kaisi ghadi thi
Chehre ki jaise hawaye udi thi
Sola tarahse badan ko nihara
Balam bohraya re
Sola tarahse badan ko nihara
Balam bohraya re
Mera balam bambaiya banaras se
Saadi mangayi re
Mera balam bambaiya banaras se
Saadi mangayi re haan…

Post a Comment

0 Comments