गमन

फिल्म - गमन (१९७८)
गाना - 
सीने में जलन, आँखों में तूफ़ान सा क्यों है
संगीतकार - 
जयदेव,
गीतकार - 
शहरयार,
गायक -  सुरेश वाडकर,

सीने में जलन, आँखों में तूफ़ान सा क्यों है
सीने में जलन, आँखों में तूफ़ान सा क्यों है
इस शहर में हर शख्स परेशान सा क्यों है
इस शहर में हर शख्स परेशान सा क्यों है

सीने में जलन

दिल है तो धड़कने का बहाना कोई ढूंढें
दिल है तो
दिल है तो धड़कने का बहाना कोई ढूंढें
पत्थर की तरह बेहिस-ओ-बेजान सा क्यों है
पत्थर की तरह बेहिस-ओ-बेजान सा क्यों है

सीने में जलन

तनहाई की ये कौन-सी मंज़िल है रफीकों
तनहाई की
तनहाई की ये कौन-सी मंज़िल है रफीकों
ता-हद-ए-नजर एक बयाबान सा क्यों है
ता-हद-ए-नजर एक बयाबान सा क्यों है

सीने में जलन

क्या कोई नयी बात नज़र आती है हम में
क्या कोई
क्या कोई नयी बात नज़र आती है हम में
आईना हमे देख के हैरान सा क्यों है
आईना हमे देख के हैरान सा क्यों है

सीने में जलन, आँखों में तूफ़ान सा क्यों है
इस शहर में हर शख्स परेशान सा क्यों है

सीने में जलन

Post a Comment

0 Comments