हमारी अधूरी कहानी

फिल्म - हमारी अधूरी कहानी
गाना - हसी बन गए 

संगीतकार - अमी मिश्रा
गीतकार - कुनाल वर्मा
गायक - अमी मिश्रा  


हाँ हसी बन गए 
हाँ नमी बन गए 
तुम मेरे आसमां 
मेरी ज़मीन बन गए 

हाँ हम बदलने लगे 
गिरने सँभालने लगे 
जब से है जाना तुम्हें
तेरी और चलने लगे 

हर सफ़र हर जगह 
हर कहीं बन गए 
मानते थे खुदा 
और हाँ वही बन गए

हाँ हसी बन गए 
हाँ नमी बन गए...

पहचानते ही नहीं अब लोग तनहा मुझे 
मेरी निगाहों में भी हैं ढूँढ़ते वो तुझे 
पहचानते ही नहीं अब लोग तनहा मुझे 
मेरी निगाहों में भी है ढूँढ़ते वो तुझे 
तुम मेरे इश्क की सर-ज़मीं बन गए

हाँ हसी बन गए 
हाँ नमी बन गए
तुम मेरे आसमां 
मेरी ज़मीन बन गए 


फिल्म - हमारी अधूरी कहानी
गाना - हमनवा  

संगीतकार - मिथुन
गीतकार - सईद कादरी 


ऐ हमनवा मुझे अपना बना ले
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे 

हूँ अकेला..ज़रा हाथ बढ़ा दे 
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे 

कब से मैं दर दर दिर रहा 
मुसाफिर दिल को पनाह दे 
तू आवारगी को मेरी आज ठहरा दे 
हो सके तो थोडा प्यार जाता दे 
सूखी पड़ी इस दिल की ज़मीन को भीगा दे 

मुरझाई सी साख पे दिल की 
फूल खिलते हैं क्यों
बात गुलों की ज़िक्र महक का 
अच्छा लगता है क्यों 
उन रंगों से तूने मिलाया 
जिनसे कभी मैं मिल न पाया 

दिल करता है तेरा शुक्रिया 
फिर से बहारे तू ला दे 
दिल का सूना बंजर महका दे 
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे 

हूँ अकेला ज़रा हाथ बढ़ा दे 
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे 

वैसे तो मौसम गुज़रे हैं 
ज़िन्दगी में कई 
पर अब ना जाने क्यों मुझे वो 
लग रहे हैं हसीं 

तेरे आने पर जाना मैंने 
कहीं न कहीं जिंदा हूँ मैं 
जीने लगा हूँ मैं अब ये फिजायें 
चेहरे को छूती हवाएं 

इनकी तरह दो कदम तो बढ़ा ले 
सूखी पड़ी दिल की इस ज़मीन को भीगा दे 
हूँ अकेला ज़रा हाथ बढ़ा दे 
सूखी पड़ी इस दिल की ज़मीन को भीगा दे

--

फिल्म - हमारी अधूरी कहानी
गाना - ये कैसी जगह ले आये  

संगीतकार - जीत गाँगुली 
गीतकार - रश्मि विराग  

गायक - दीपाली साथे 

ये कैसी जगह ले आये हो तुम 
ये कैसी नयी दिल गाये है धुन 
मैं मीरा सी दीवानी हो गयी 
इस दुनिया से बेगानी हो गयी 

मेरे होटों पे जो भटके 
कई जन्मों की प्यास है 
मेरे अमृत का वो प्याला बस तेरे पास है 
ये कैसी जगह ले आये हो तुम
ये कैसी नयी दिल गाये है धुन 

रात मेरी आँखों आँखों में कट गयी 
रौशनी में तेरी सुबह सी हो गयी 
रात मेरी आँखों आँखों में कट गयी 
रौशनी में तेरी सुबह सी हो गयी 
चेहरा हूँ मैं, मेरा रूप हो तुम 
ये कैसी जगह ले आये हो तुम 

आज उस खुदा से मुझे कुछ न चाहिए 
सिर्फ तेरे आगे सर झुकना चाहिए 
आज उस खुदा से मुझे कुछ न चाहिए 
सिर्फ तेरे आगे सर झुकना चाहिए 

--


फिल्म - हमारी अधूरी कहानी
गाना - हमारी अधूरी कहानी..  

संगीतकार - जीत गाँगुली 
गीतकार - रश्मि विराग  

गायक - दीपाली साथे 

पास आये 
दूरियां फिर भी कम न हुई 
एक अधूरी सी हमारी कहानी रही 
आसमान को ज़मीन ये जरूरी नहीं 
जा मिले..जा मिले 
इश्क सच्चा वही 
जिसको मिलती नहीं मंजिलें..मंजिलें..
रंग था नूर था 
जब करीब तू था
एक जन्नत सा था, ये जहाँ 
वक़्त की रेट पे कुछ मेरे नाम सा 
लिख के छोड़ गया तू कहाँ...
हमारी अधूरी कहानी 
हमारी अधूरी कहानी ..

हमारी अधूरी कहानी 
हमारी अधूरी कहानी ..

खुशबु से तेरी युहीं टकरा गए
चलते चलते देखो न हम कहाँ आ गए 

जन्नतें अगर यहीं 
तू दिखे क्यों नहीं 
चाँद सूरज सभी है यहाँ
इंतजार तेरा सदियों से कर रहा 
प्यासी बैठी है कब से यहाँ 

हमारी अधूरी कहानी 
हमारी अधूरी कहानी 

प्यास का ये सफ़र खत्म हो जाएगा 
कुछ अधुरा सा जो था पूरा हो जाएगा 

झुक गया आसमान 
मिल गए दो जहाँ  
हर तरफ है मिलन का शमां 
डोलियाँ हैं सजी,खुशबुएँ हर कहीं 
पढने आया खुदा खुद यहाँ 

हमारी अधूरी कहानी 
हमारी अधूरी कहानी

Post a Comment

0 Comments